Google+ Badge

सोमवार, 1 दिसंबर 2014

जनता जानती है !

किसी  भ्रम  में  मत  रहना
जहांपनाह  !
यह   वह  जनता  नहीं  है
जो  स्मृति-दोष  का  शिकार  थी
और  भूल  जाती  थी  हर  बार
शासकों  के  अत्याचार
और  भ्रष्टाचार

इसके  पास
तुम्हारे  सारे  कुकर्मों  का
हिसाब  है  ! 

यह  जनता 
किसी  और  ही  मिट्टी  की  बनी  है
और  जानती  है
कैसे  गिराए  जाते  हैं 
सिंहासन
कैसे  ठिकाने  लगाई  जा  सकती  है
सत्ताधारियों  की  बुद्धि

तुम्हें  चेतावनी  है  यह
उस  नाकारा  जनता  की
उसी  आम  आदमी  की
जिसे  मूर्ख  बना  कर
तुम  आ  पहुंचे  हो
सिंहासन  तक

यह  जनता  जानती  है
तख़्त  पर  बैठाना
मगर  उससे  भी  पहले  यह  कि
कैसे  उतारा  जा  सकता  है
शहंशाहों  को  तख़्त  से  !

जनता  को  धोखा  मत  देना
जहांपनाह  ! 
यह  छोड़ेगी  नहीं  तुम्हें
और  तुम्हारी  भावी  पीढ़ियों  को  !

                                                                               (2014) 

                                                                        -सुरेश  स्वप्निल  

.... 

                                                                 

फ़राओ जब मरेगा ...

फ़राओ  जब  मरेगा
तब
दफ़नाए  जाएंगे  उसके  साथ
उसके  सारे  विश्वस्त  अनुचर
उसका  सिपहसालार  भी
उसके  विशाल  पिरामिड  में  !

अपनी  बारी  की  प्रतीक्षा  करो,
भक्त-जन  !
एक  महान  फ़राओ  के  साथ
एक  ही  क़ब्र  में  सोने  का  सुख
किसी  और  देश  में  नहीं  मिलेगा
कम  से  कम  21वीं  शताब्दी  में  !

हो  सकता  है  कि  किसी  दिन
पुनर्जीवित  हो  उठे 
तुम्हारा  फ़राओ  
और  साथ-साथ  तुम  सब  भी ...

फिलहाल,  कामना  करो
कि  मृत्यु  आ  जाए  फ़राओ  को
और  तुम्हें....
मगर  तुम  तो  पहले  से  ही 
मरे  हुए  हो  !

महान  पिरामिड
महान  फ़राओ 
महान  अनुचर
महान  भक्त-जन ...

वाह  !  और  क्या  चाहिए
इतिहासकारों  को  ?!

                                                                (2014)

                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

...

गुरुवार, 20 नवंबर 2014

ईश्वर का अवतार !

भ्रम  कहां  टूटते  हैं
इस  देश  में  ?

एक  भ्रम  टूटता  लगता  है
तो  और  सौ  नए  भ्रम
पैदा  कर  दिए  जाते  हैं

समाज  के  हर  छोर  से
प्रकट  हो  जाते  हैं
भ्रमों  के  समर्थक
भीड़  बढ़ती  चली  जाती  है
हर  भगवा, हर  हरे  रंग  के  लिबास  वालों  के
इर्द-गिर्द  !

जो  लोग  बिना  भ्रम  के
जीना  चाहते  हैं
वे  क़रार  दिए  जाते  हैं
धर्म  और  राष्ट्र  के  शत्रु 
यहां  तक  कि  आतंकवादी  भी  !

शासक-वर्ग  चाहता  है
हर  भ्रम  के  आस-पास  जुटने  वाली
भीड़  को  बढ़ाते  जाना
अगले  चुनाव  में
वोटों  की  फ़सल  काटने  के  लिए 
और  हम  हैं
कुछ  नास्तिक,  अनीश्वरवादी
हर  भ्रम  के  विरुद्ध
सीना  तान  कर  खड़े  हो  जाने  वाले
सेना,  पुलिस  और  'धर्म-रक्षकों'  से
दो-दो  हाथ  करने  !

आप  चाहें  तो
कह  सकते  हैं  मुझे  भी 
एक  नया  भ्रम
किसी  और  ईश्वर  का  अवतार  !

                                                                    (2014)

                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

...



मंगलवार, 18 नवंबर 2014

शास्त्र या शस्त्र

सभ्यता
और  शिष्टाचार  के  विपरीत
कहना  पड़  सकता  है
बहुत-कुछ
आज  मुझे

कुछ  अ-सांस्कृतिक 
और  अ-श्लील  शब्द
संभवतः,  उधार  लेकर 
अपने  शत्रुओं  की  भाषा  से

शस्त्र  भी  उठाने  पड़  सकते  हैं
शायद ...

हिंस्र  पशुओं  के  समक्ष
शब्द  असफल  हो  जाते  हैं
अक्सर

शास्त्र  या  शस्त्र
चुनाव  तो  करना  ही  होगा
अब !

                                                                (2014)

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

...

शनिवार, 8 नवंबर 2014

अलोकप्रिय हो जाना...

बबूल  हो  जाना  ही
श्रेष्ठ  विकल्प  है
लकड़हारों  के  देश  में
तन  की  सुरक्षा
और  मन  में
अनधिकृत  प्रवेश  
रोकने  के  लिए ...

अस्मिता  बनाए  रखने  के  लिए
बेहतर  है
अलोकप्रिय  हो  जाना !

                                                                (2014)

                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

....

शुक्रवार, 7 नवंबर 2014

असंभव....

असंभव  है
समुद्र  की  तलहटी  को
भेद  कर
अंतरिक्ष  में  छलांग  लगाना
और  अपनी  मुट्ठी  में
चांद-तारे  क़ैद  कर  लाना

संसार  की  नवीनतम  तकनीक
और  सर्व-सक्षम  मशीनों
और  सबसे  शक्तिशाली
मनुष्य  के  लिए

यहां  तक  कि
कवि  के  मन
और  कल्पनाशक्ति  के  लिए  भी  !

आसान  है
असंभव  को  लक्ष्य  बना  कर
स्वयं  को
और  समाज  को
भ्रमित  कर  लेना  !

                                                                     (2014)

                                                             -सुरेश  स्वप्निल 

... 

गुरुवार, 6 नवंबर 2014

हरसिंगार: दो कविताएं

हरसिंगार : एक
ठीक   नहीं
मन  को  हरसिंगार
बना  लेना

सारी  संवेदनाएं
झर  जाती  हैं
धीरे-धीरे

और  तुम्हें
पता  भी  नहीं
चलता  कभी  !

हरसिंगार: दो 

क्या  फ़ायदा 
हरसिंगार  होने  से 
अब  यहां

लोग  अब
दुआ  मांगने  भी
नहीं  आते

कोई  आंचल
नहीं  फैलाता  अब
सुंदरता  बटोरने  !

                                                              (2014)

                                                    -सुरेश  स्वप्निल

...

मंगलवार, 4 नवंबर 2014

मौलिश्री, पलाश और अमृताश


क्यों  लगता  है  तुम्हें
कि  मैं
नहीं  जानता  गुलाबों  के
रंग  के  बारे  में

कि  मुझे  नहीं  पता
हरित  चम्पा  की  गंध
और  केवड़े  के
कांटों  के  बारे  में  ?

मैं
मौलिश्री  के  फूलों  की
माला  पहनता  था
गले  में 
और  पलाश
और  अमृताश  के  फूलों  से
रंगोली  बनाता  था
बचपन  में ....

वस्तुतः,  बहुत-कुछ
झाड़ना-बुहारना
काटना-छीलना
और  अलग  करना पड़ेगा
तुम्हें
मेरे
और  ख़ुद  के  अन्तर्मन  से
मेरे  पास  तक  आने  के  लिए  !

                                                                         (2014)

                                                                -सुरेश  स्वप्निल 

....

गुरुवार, 23 अक्तूबर 2014

यह कैसी दीवाली है ?

अंधियारे  ने
फिर  फैलाया
उजियारे  पर
अपना  जादू

ज़हर  भरा  है  नभ  के  मन  में
रात  अभी  भी  काली  है
दीपक  तले  अंधेरा  छाया
यह  कैसी  दीवाली  है  ?

धरती  के 
बेटों  ने  चाहा
अंबर  के 
तारे  तोड़ें, पर

हाथ  लगे  माटी  के  दीपक
क़िस्मत  उनकी  काली  है

उजियारे  के
भ्रम  में  जीना
कोई  अच्छी 
बात  नहीं 

टिमटिम  करते  इस  दीपक  की
लौ  बुझने  ही  वाली  है  !

                                                                     (दीपावली, 1979)

                                                                     -सुरेश  स्वप्निल

...

गुरुवार, 16 अक्तूबर 2014

विद्रोह की सिंफ़नी

वही  हुआ
जिसकी  आशंका  थी
एक-एक  कर 
क़ैद  में  डाल  दिए  गए
सारे  शब्द  !

विद्रोही  शब्दों  को
ढूंढ-ढूंढ  कर
ले  आया  गया  चौराहे  पर
और  गोली  मार  दी  गई....
सरे-आम  !

वे  नहीं  जानते
रक्त-बीज  होते  हैं  शब्द
धरा  पर  गिरे  रक्त  की  हर  बूंद  से
जन्म  लेते  चले  जाएंगे 
हज़ारों-लाखों  शब्द
सब  के  सब 
विद्रोही
अपनी  पहली  सांस  से  ही 
विद्रोह  की  सिंफ़नी  रचते  हुए  !

संसार  का  सबसे  आत्मघाती  क़दम  है
सत्ताधारियों  के  लिए
विद्रोही  शब्दों  की  हत्या  करना  !

                                                                         (2014)

                                                               -सुरेश  स्वप्निल

....

शनिवार, 28 जून 2014

अगली पीढ़ियों के नाम

भय  नहीं  लगता  हमें  अब
समय  से
संयोग  से
सरकार  से
लाठियों  से
गोलियों  की  मार  से

डर  गए  तो
मुश्किलें  बढ़  जाएंगी  !

हो  चुका  डरना  बहुत  दिन
उम्र  सारी 
कट  गई  प्रतिरोध  में
अन्याय  के
अब  क्या  डरेंगे
मृत्यु  जब  पल-पल 
निकट तर  आ  रही  हो

जिस  तरह  सारे  मरेंगे
उस  तरह  मर  जाएंगे
हम भी

मगर  कह  जाएंगे 
निर्द्वंद  हो  कर
बात  अपनी 
छोड़  जाएंगे  कई  संदेश
अगली  पीढ़ियों  के  नाम  से  !

                                                            (2014)

                                                      -सुरेश स्वप्निल 

...

गुरुवार, 26 जून 2014

व्यवस्था के हाथों में...

ठीक  उस  समय
जबकि  अंतिम  सांसें
गिनी  जा  रही  थीं
तलवारें  हटा  ली  गई  हैं
भेड़ों  के  सिर  के  ऊपर  से

यह
वधिक  का  हृदय  परिवर्त्तन  है
अथवा,  और  अधिक  क्रूर  भविष्य  का  संकेत ?

भेड़ें  तय  कर  लें
कि  सब-कुछ  भाग्य  पर  छोड़ना  है
या 
अपने  इच्छित  जीवन  के  लिए
संघर्ष  करना  है

मृत्यु  अंतिम  सत्य  है
निस्संदेह  अपरिहार्य
किंतु,  जीवन  के  लिए
संघर्ष  किया  जा  सकता  है
और  किया  जाना  चाहिए

व्यवस्था  के  हाथों  में
सब-कुछ  छोड़ा  नहीं  जा  सकता
अंततः
जीवन  तो  क़तई  नहीं   !

                                                                  (2014)

                                                           -सुरेश  स्वप्निल 

...



बुधवार, 25 जून 2014

भीष्म की अंतिम गति ...

एक  ही  गति  होती  है
हर  महाभारत  में
भीष्म  पितामह  की
बाणों  की  शैया  पर
टिका  हुआ  शरीर
और  हवा  में 
लटकता  हुआ  सिर...

हर  बार  कोई  अर्जुन
प्रकट  होता  रहा  है  अभी  तक
भीष्म  की  मुक्ति  के  लिए
लेकिन
इस  बार  भी  यही  होगा,
संशय  है  इसमें

संस्कार  बदल  दिए  गए  हैं
इस  बार
कौरव-पांडवों  के
अब  कोई  महत्व  नहीं
व्यक्ति  के  पिता  या  पितामह  होने  का !

भीष्म  को  भी 
जाना  ही  होगा
पूर्वजों  के  मार्ग  पर
कहीं  कोई  कुंठा  मन  में
दबी  रह  जाएगी  लेकिन....

कदाचित
इससे  बेहतर  भी  हो  सकती  थी
अंतिम  गति ....!

                                                                            (2014)

                                                                   -सुरेश  स्वप्निल 

....

सोमवार, 23 जून 2014

मूर्खता का मूल्य

कभी-कभी
बहुत  पीड़ा  होती  है
जब  आप  बहुत  सदाशयता  पूर्वक
किसी  को  रोकते  हैं
गड्ढे  में  गिरने  से
और  वह  कूद  जाता  है
नीचे
बिना  आपकी  सदाशयता  पर
विश्वास  किए  !

वैसे,  सच  कहा  जाए  तो
यही  तो  किया  है
आपने  भी  !

बार-बार  रोकने  के  बाद  भी
आ  ही  गए  आप
आदमख़ोरों  की  चालों  में
और  कूद  गए  गड्ढे  में  !

अब  सहलाते  रहिए  अपने  घाव
भुगतते  रहिए  दिन-प्रतिदिन
शरीर  और  मन  पर
पड़ने  वाली  चोटों  को  !

हमें  अब  कुछ  नहीं  कहना  है  आपसे
कम  से  कम  अगले  पांच  वर्ष  तक

पांच  वर्ष  बहुत  अधिक  नहीं  होते
मूर्खता  का  मूल्य  चुकाने  के  लिए
और  काम  भी  नहीं  होते
जन-विरोधी  सत्ता  को
उखाड़  फेंकने  के  लिए  !

                                                                       (2014)

                                                               -सुरेश  स्वप्निल

....

शुक्रवार, 20 जून 2014

तब मेरी दंतकथाएं

आप  चाहें
तो  जुबां  काट  दें  मेरी
मगर  चुप  नहीं  रहूंगा  मैं

ज़ुबां  कट  गई
तो  मैं 
अपनी  अंगुलियों  के
इशारों  से  कहूंगा
लिख-लिख  कर
आसमान  सर  पर  उठा  लूंगा
तब  क्या  करेंगे  आप  ?

आप  चाहें  तो
मेरी  अंगुलियां  भी  काट  दें
तब  मैं 
अपनी  निगाहों  से  बात  करूंगा
वह  शायद  आपको
बहुत  भारी  पड़ेगा

आप  चाहें  तो  मेरे
सारे  अंग  छिन्न-भिन्न  कर  दें
मगर  तब  भी
मैं  संवाद  का
कोई  न  कोई   ज़रिया
ढूंढ  ही  लूंगा

मुझे  मौन  करने  का
एक  ही  रास्ता  है  आपके  पास
मेरी  हत्या  कर  देना …

मगर 
तब  मेरी  दंतकथाएं
पीछा  नहीं  छोड़ेंगी  आपका
सात  जन्म  तक
पीढ़ी  दर  पीढ़ी  !

                                                       (2014)

                                                -सुरेश  स्वप्निल

गुरुवार, 19 जून 2014

चुप रहना ...!

बेशक़
बहुत  कुछ  पाया  जा  सकता  है
चुप  रह  कर
मसलन,  सरकारी नौकरी,
गाड़ी,  बंगला,
यश,  प्रतिष्ठा,  सम्मान
और  पुरस्कार...

बेशक़,  बचा  जा  सकता  है
चुप  रह  कर 
तमाम  मुसीबतों  से
जैसे,  पुलिस
सीबीआई,  इनकम  टैक्स,
फ़र्ज़ी  मुठभेड़ ....

बेशक़,  आत्म-हत्या  का 
एक  बेहतर  तरीक़ा  है
सब-कुछ  देखते-सुनते  हुए  भी 
चुप  रहना !

                                                      (2014)

                                                -सुरेश  स्वप्निल

...

शनिवार, 17 मई 2014

...कोई और सारथि !

शत्रु  की  पताका
फहरा  रही  है
हस्तिनापुर  पर  !

हे  पार्थ !
कौन  था  तुम्हारा  सारथि
किसने  की  थीं 
व्यूह-रचनाएं
कहां  खो  गया 
तुम्हारे  योद्धाओं  का  साहस
उनका  आत्म-बल ?

न,  पार्थ  !
पराजय  के  दंश  से  बड़ा
कोई  घाव  नहीं  होता
कोई  अपमान  बड़ा  नहीं  होता
पराजय  के  अपमान  से

इतनी  ग्लानि,  इतनी  पीड़ा
सह  सकोगे  तुम  ?

प्रतिशोध  की  ज्वाला 
बुझ  तो  नहीं  गई
तुम्हारे  ह्रदय  में  ?

सीखना  ही  होगा  तुम्हें
पराजय  को  विजय  में  बदलना
करनी  ही  होंगी  पूरी
अपेक्षाएं
दीन-हीन  नागरिकों  की 
फहरानी  ही  होगी  फिर  से
अपनी  पताका
हस्तिनापुर  पर ...

अबकी  बार 
चुन  लेना  कोई  और  सारथि  !

                                                             ( 2014 )

                                                       -सुरेश  स्वप्निल

...

शनिवार, 10 मई 2014

अगला महाभारत ...!

युद्ध  का  अंतिम  प्रहर
आ  ही  गया,  महावीरों  !

देखना,  कोई  प्रयत्न
शेष  न  रह  जाए
सूर्यास्त  के  पूर्व  ही
जीतना  होगा  युद्ध
झुका  देनी  होंगी
शत्रुओं  की  ध्वजाएं ...

शत्रु  पक्ष  का
एक  भी  योद्धा  शेष  न  रह  पाए
जीवित  अथवा  घायल

मृत्यु  के  मुख  से  लौटा
हर  शत्रु
सौ  शत्रुओं  के  बराबर  होता  है
क्रूर  और  भयावह...

स्थायी  विजय  तभी  संभव  है
जब  मिटा  दी  जाए
शत्रुओं  की  युद्ध  करने  की
सारी  आशाएं/आकांक्षाएं  
और  ख़त्म  कर  दिए  जाएं
सारे  दुस्साहस

युद्ध  के
इस  अंतिम  प्रहर  को 
अकारथ  न  होने  देना
ताकि  अगले  महाभारत  की
भूमिका  स्पष्ट  हो  सके ...!

                                                        ( 2014 )

                                                 -सुरेश  स्वप्निल 

...




बुधवार, 7 मई 2014

नीच सोच, नीच कर्म !

मेरा  जन्म-नाम  'न'  वर्ण  से
आरंभ  होता  है
यानी,  वृश्चिक  राशि
अर्थात,  चंद्रमा  की  नीचतम  राशि  !

चंद्रमा  मन  का  स्वामी  होता  है
वृश्चिक  राशि  में  जन्म  लेने  वाले
जातक  का  मन
नीच  भावनाओं,  नीच  विचारों  से  भरा  होता  है
उसके  सभी  कर्म  नीच  होते  हैं
नीच  सोच  से  प्रेरित  !

मंगल  इस  राशि  का  स्वामी
होता  है
व्यक्ति  की  उग्रतम  भावनाओं  का  कारक
यही  कारण  है
मेरी  झगड़ालू  प्रवृत्ति  का  ! 

मेरा  अपने  जन्म-समय  पर
अधिकार  होता
तो मैं  किसी  और  समय  पर
जन्म  लेता  !

मेरी  राशि  का  नैसर्गिक  गुण  है
अवसर  पाते  ही
डंक  मार  देना
मेरा  कोई  मित्र  नहीं  होता
क्योंकि  मैं
सबका  शत्रु  होना  ही
श्रेष्ठ  मानता  हूं  !

बिच्छू  हूं  न  !
सब  मेरे  शत्रु,
मैं  सबका  शत्रु  !
किसी  दिन
कोई  अनजान,  शैतान  बच्चा
मसल  कर  देगा  मुझे
अपने  जूते  से  !

नीच  राशि,  नीच  मन
नीच  सोच,  नीच  कर्म  !

अंत  भला  उच्च  कैसे  होगा  ?

                                                                       ( 2014 )

                                                                -सुरेश  स्वप्निल 

...

सोमवार, 5 मई 2014

धर्म का अर्थ ???

वह  निकलता  था
एक  हाथ  में  धर्म-ग्रंथ 
और  दूसरे  हाथ  में  तलवार  लेकर
इस  चेतावनी  के  साथ
कि  या  तो  मेरा  धर्म  स्वीकार  करो
या  मेरी  तलवार  !

उसके  वंशज
कई  शताब्दियों  के  बाद
अचानक  आ  प्रकट  हुए  हैं
देश  में
वे  हाथ  में  तलवार  नहीं  रखते
कोई  चेतावनी  भी  नहीं  देते 
किसी  विधर्मी  को
वे  केवल  संकेत करते  हैं
अपनी  अघोषित,  कुपोषित  सेना  को
और  वे  भूखे-नंगे
टूट  पड़ते  हैं
अपने  ही  जैसे  भूखे-नंगों  की  बस्तियों  पर
तरह-तरह  के  हथियार  लेकर  !

वे  इतिहास  के  उस  कुख्यात  महानायक  के
वर्त्तमान  वंशज
किस  देश,  किस  राष्ट्र,  किस  धर्म  के  हैं  ?
क्या  उनकी  शिराओं  में  भी
वही  रक्त  है
जो  बहता  है  मेरी
और  आपकी  शिराओं  में  ?

क्या  यही  होता  है
धर्म  का  अर्थ  ???


                                                                                 ( 2014 )
     
                                                                         -सुरेश  स्वप्निल

...

रविवार, 4 मई 2014

क्या करेंगे आप ?

उसके  एक  आव्हान  पर
दौड़  पड़े 
सारे  के  सारे  हत्यारे
निर्दोष,  निरपराध  मनुष्यों  को
काट-मारने  के  लिए

कौन  है  वह  आदमख़ोर  ?

जानते  सभी  हैं 
आप  और  मैं  भी
मगर  नाम  नहीं  लेगा  कोई
मेरे  सिवा !

मैं  जानता  हूं 
कि  जब  मार  डाला  जाऊंगा  मैं  भी
उसके  भाड़े  के  हत्यारों  के  हाथों
तब 
मेरी  मृत्यु  पर  आंसू  बहाने  वालों  में
आप  भी  होंगे
संभवतः,  सबसे  आगे  !

आप  शायद  मुझे  मार  डालने  वालों  को
जानते  होंगे
मगर  नाम  नहीं  बताएंगे
डर  के  मारे  !

मगर  मैं  इतना  कायर  नहीं  हूं

जब  हत्यारे  आपको  ढूंढते  हुए  आएंगे
आपसे  पहले  मैं  ही  मारा  जाऊंगा
हत्यारों  का  प्रतिरोध  करते  हुए

मेरे  मारे  जाने  के  बाद
क्या  करेंगे  आप  ???

                                                                ( 2014 )

                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

...

गुरुवार, 1 मई 2014

मई दिवस पर : बोल मजूरा, हल्ला बोल

बोल  मजूरा,  हल्ला  बोल
बोल  जवाना,  हल्ला  बोल
बोल  किसाना,  हल्ला  बोल

हल्ला  बोल  कि  हिल  जाए  धरती,  डोले  आकाश

सदियों  से  तेरी  मेहनत  का
फल  औरों  ने  खाया  है
नहीं-नहीं,  अब  सोना  कैसा
सूरज  सिर  पर  आया  है

हुआ  सबेरा,  आंखें  खोल 
बाज़ू  की  ताक़त  को  तौल
ले  अपनी  मेहनत  का  मोल 
तू  सब  कुछ  है,  अपने  मन  में  पैदा  कर  विश्वास

जाग  कि  दुनिया  को  बतला  दे
क्या  है  तेरी  क़ीमत
अपने  मेहनतकश  हाथों  से
लिख  दे  जग  की  क़िस्मत

तुझसे  आंख  मिलाए  कौन
आंधी  से  टकराए  कौन
अपनी  मौत  बुलाए  कौन
कब  तक  तुझसे  हार  न  मानेंगे  क़ातिल  एहसास

बोल  मजूरा,  हल्ला  बोल 
बोल  जवाना,  हल्ला  बोल
बोल  किसाना,  हल्ला  बोल

हल्ला  बोल  कि  हिल  जाए  धरती,  डोले  आकाश

हल्ला  बोल
हल्ला  बोल
हल्ला  बोल  !!! 


सोमवार, 28 अप्रैल 2014

बहकाए हुए बच्चे

कोई  25-30  बच्चे
खड़े  हैं  समुद्र-तट  पर
ज़ोर-ज़ोर  से  फूंक  मारते  हुए

बच्चे  आशा  कर  रहे  हैं
कि  उनकी  फूंकों  से
पैदा  हो  जाएगा  एक  महा-चक्रवात
और  फैल  जाएगा
पृथ्वी  के  चप्पे-चप्पे  पर  !

स्पष्टत:,  बच्चों  को  बहका  दिया  है
किसी  मूर्ख  महत्वाकांक्षी  ने  !

बहकाए  हुए  बच्चे
नहीं  जानते  बेचारे
कि  उनकी  फूंक  से
केवल  मोमबत्तियां  ही  बुझ  सकती  हैं
वे  भी,  जन्मदिन  के  केक  वाली  !

कोई  समझाता  क्यों  नहीं  बच्चों  को
कि  जिस  हवा  की  आशा 
वे  कर  रहे  हैं
उसके  लिए  बहुत  बड़े  पर्यावरणीय  परिवर्त्तन
आवश्यक  हैं
जो  उस  मूर्ख  महत्वाकांक्षी  के  लिए
कभी  संभव  नहीं
जो  उन्हें
बहका  कर  ले  आया  है
यहां  तक  !

बच्चे  अंततः
बच्चे  ही  तो  हैं
लेकिन  वे  बड़ों  से  कहीं  अधिक
बुद्धिमान  भी  हैं
वे  जिस  दिन  पहुंचेंगे
सत्य  की  तह  तक
उस  दिन
सचमुच  जन्म  लेगा  एक  महा-चक्रवात
जो  समाप्त  कर  देगा
सारे  मूर्ख  महत्वाकांक्षियों  को 
और  उनके  द्वारा
फैलाए  जा  रहे 
हवाओं  के  भ्रमों  को  !

                                                                      ( 2014 )

                                                               -सुरेश  स्वप्निल

...

शनिवार, 26 अप्रैल 2014

कुछ देर का दृष्टिबंध ...

मदारी  बहुत  ख़ुश  है 
आजकल
उसकी  हर  युक्ति  काम  कर  रही  है
उदाहरण  के  लिए, 
वह  हवा  में  हाथ  हिलाता  है
और  हाथी  प्रकट  हो  जाता  है

वह  देखते  ही  देखते 
मजमे  की  जगह  पर
कुछ  भी  साक्षात  कर  दिखाता  है
एक  बार
उसने  लाल  क़िला  ला  खड़ा  किया
दूसरी  बार  संसद  भी 
वह  तो  व्हाइट  हाउस  भी  ले  आता
मगर  अनुमति  नहीं  मिली
वॉशिंग्टन से ...

मदारी  बहुत  ख़ुश  है
अपने  सहायकों  से
वे  हर  असंभव  को  संभव 
करके  दिखा  रहे  हैं
यहां  तक  कि
विरोधियों  के  घर  में 
सेंध  मारना  भी  !

दुर्भाग्य  यह  है
कि  कुछ  भी  यथार्थ  नहीं  है
उसके  खेल  में
वह  जानता  है
कि  सम्मोहन  टूटते  ही
सारे  दर्शक
लौट  जाएंगे  अपने-अपने  घर
और  फिर  पलट  कर
देखेंगे  तक  नहीं 
मदारी  की  तरफ़  !

यह  दिहाड़ी  वाला  मामला  है,  मित्र  !
दिहाड़ी  ख़त्म  तो  दर्शकों  की 
आस्थाएं  भी  ख़त्म
चीख़ने-चिल्लाने  की  शक्ति  भी
आख़िर  मज़दूर  क्यों  बेचे 
अपना  सारा  जीवन 
ठेकेदार  के  हाथों
वह  भी 
सिर्फ़  कुछ  दिहाड़ियों  के  लिए  ?

मदारी  जानता  है
कि  यह  सिर्फ़  धोखा  है
नज़र  का
मात्र  कुछ  देर  का  दृष्टिबंध ...

कहीं  कोई  तो  है
जो  मदारी  से  करवा  रहा  है
ये  सारे  तिलिस्म
सारे  मायाजाल ...

सारे  मंत्र  चुक  जाते  हैं
सारे  भूत-प्रेत  लौट  जाते  हैं
सारे  सहायक  वापस  चले  जाते  हैं
अपनी-अपनी  पुरानी  नौकरियों  पर  !

मदारी  यदि  समय  रहते
नहीं  कर  पाया
वह  सब
जो  उस  पर  पैसा  लगाने  वाले
चाहते  हैं
उसके  माध्यम  से  करवा  लेना
तो  पता  नहीं, 
क्या  होगा  इस  ग़रीब  का  !

                                                                   ( 2014 )

                                                            -सुरेश  स्वप्निल

...

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

बस, एक बार ...

अलादीन  का  चिराग़ 
मिल  गया  है  उसे
अब  वह 
चिराग़  को  रगड़ेगा  ज़मीन  पर
और  दैत्य  प्रकट  हो  जाएगा
'क्या हुक्म  है  मेरे  आक़ा ?'
कहता  हुआ ...

मगर  इस  बार
दैत्य  की  भी  कुछ  शर्त्तें  हैं
जो  माननी  ही  होंगी  उसे
जैसे,  रोज़  सौ-पचास  मनुष्यों  का
ताज़ा  मांस....

यदि  देश  को 
संसार  की  महाशक्ति  बनाना  है
यदि  चीन,  पाकिस्तान 
और  अमेरिका  को
अपने  पाँवों  में  गिरना  है
तो  इतना  त्याग  करना  ही  पड़ेगा

और  फ़र्क़  क्या  पड़ता  है  उसे  ?
सवा  सौ  करोड़  की जनसंख्या  में
रोज़  सौ-पचास  चढ़ा  भी  दिए
दैत्य  की  भेंट
तो  भी 
देश  की  जनसंख्या  कम  नहीं  होने  वाली
और  फिर  दैत्य  भी  तो  है !

बहरहाल, 
एक  और  शर्त्त  भी  है  देश  की
जिसे  पूरा  करने  के  लिए 
आपकी  मदद  चाहिए  उसे

आप बस,  एक  बार
प्रधानमंत्री  बनवा  दीजिए  उसे 
अखंड  भारत  राष्ट्र  का ....!

                                                                            ( 2014 )

                                                                   -सुरेश  स्वप्निल  

...

बुधवार, 23 अप्रैल 2014

निर्णय तो हो चुका !

यह  निश्चित  करना
काफ़ी  मुश्किल  होता  जा  रहा  है
कि  शत्रु
स्वयं  ख़तरनाक  है
या  उसके  समर्थक

कुछ  लोग
जो  स्वयं  सामने  नहीं  आते
किंतु  युद्ध  के  सारे  सूत्र
अपने  हाथ  में  रखना  चाहते  हैं
वे  जानते  हैं
कि  विजेता  अंततः  वही  होंगे
युद्ध  का  परिणाम चाहे  जो  भी  हो !

साधन-संपन्न  होने  का  एक  अर्थ  यह  भी  है 
आजकल
कि  लोकतंत्र  की  सारी  निर्णय-प्रक्रिया  को
अपने  वश  में  कर  लिया  जाए
ताकि  हमेशा  छिपे  रहें
आपके  सारे  अपराध !

अब  यदि  ऐसे  लोग
भ्रम  में  ही  जीना  चाहें
तो  क्या  कहा  जा सकता  है  भला ?

निर्णय  तो  हो  चुका
केवल  घोषणा  शेष  है
युद्ध  के  परिणाम  की

आप  यदि  सही  निर्णय  के  साथ  हैं
तो  मिठाइयां  बांट  सकते  हैं
परिणाम  की  प्रतीक्षा  किए  बिना  !

                                                               ( 2014 )

                                                      -सुरेश  स्वप्निल 

...

मंगलवार, 22 अप्रैल 2014

तानाशाह

अकेला  होते  ही
भय  से  थर-थर 
कांपने  लगता  है
तानाशाह  !

सब  दिखावा  है
उसकी  56 इंच  की  छाती
अभेद्य  जिरह-बख़्तर
उसकी  चमकती  हुई  तलवार

उसकी  तथाकथित  वीरता  का
एकमात्र  रहस्य  है
उसकी  आज्ञाकारी  सेनाएं
उसके  आस-पास  तैनात  अंगरक्षक
आत्म-सम्मान  विहीन  नौकरशाही ...

उसे  अंधेरे  से
अपने  आस-पास  से
यहां  तक  कि 
स्वयं  अपने  अंगरक्षकों  से  भी
शाश्वत  भय  है

वह  मृत्यु  के  नाम  से  ही 
घबरा  उठता  है

विडम्बना  यह  है
कि  अपने  भय  से  पार  पाने  के  लिए
हत्याएं  करने  से 
डर  नहीं  लगता  उसे ...

तानाशाह  कभी  आईना  नहीं  देखता !

जिस  दिन  वह
स्वयं  अपनी  रक्त-रंजित  आंखों  में 
आंखें  डाल  कर  देखेगा
उसी  दम
दम  तोड़  देगा  तानाशाह !

                                                                (2014)

                                                       -सुरेश  स्वप्निल

...

सोमवार, 21 अप्रैल 2014

कौन-सा कुरुक्षेत्र ?

यह  कौन-सा  कुरुक्षेत्र  है
जहां  दर्जनों  धृतराष्ट्र  खड़े  हैं
हर  किसी  के  सामने

असंख्य,  अक्षौहिणी  सेनाएं
आधुनिकतम  शस्त्रास्त्र  से  लैस
सारे  सेनानायक,  सारे  सैनिक
सब  के  सब
आंखों  पर  पट्टियां  बांधे
लड़ते  चले  जा  रहे  हैं
न  जाने  किसके  विरुद्ध
किसके  पक्ष  में

वे  कौन  शकुनि  हैं
जो  विवश  कर  रहे  हैं  भाई-भाई  को
एक-दूसरे  के  विरुद्ध
युद्ध  के  लिए  ?

कोई  नियम  नहीं
कोई  सिद्धान्त  नहीं
केवल  युद्ध
विश्व  के   समृद्धतम  प्राकृतिक  संसाधनों
और  मूक -तम  जनसंख्याओं  में  से  एक  पर
विजय  के  लिए ...

यह  युद्ध
दृष्टिहीनों  का  है
अथवा 
दृष्टिहीनता  का ?

                                                                              (2014)

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल

...

रविवार, 20 अप्रैल 2014

जमी हुई धूल

क्या  होगा 
अबकी  बार ?
कोई  है  तैयार
यह  सुनने,  समझने 
और  मानने  को
कि  सब  प्रयास  हो जाएंगे 
बेकार
पिछली  बार  की ही  भांति

परिवर्त्तन  क्या  इस  तरह
इतनी  सरलता  से  हो  जाते  हैं ?

न  कोई  भूकंप  आया
न  ज्वालामुखी  फूटा
न  कोई  ऐसा  जन-उभार
जो  उलट-पलट  दे  सारे  ताज-तख़्त

न  हो  सकी  साफ़
समाज  के  दिल-दिमाग़  पर
शताब्दियों  की  जमी  हुई  धूल 

अगर  कुछ  बदला  भी
तो  सिर्फ़  नज़र  आने  वाले 
कुछ-एक  चेहरे

क्या  इसी  परिवर्त्तन  के  लिए
उतावले  हो  रहे थे  सब ???

                                                                (2014)

                                                       -सुरेश  स्वप्निल

...

मंगलवार, 15 अप्रैल 2014

चुनना किसे है ?!!

शब्द  कभी-कभी 
छोटे  पड़  जाते  हैं
व्यक्तित्वों  की  व्याख्या  करने  में
जैसे  हिटलर,  मुसोलिनी, तोज़ो ...

इतिहास  देखता  रह  जाता  है
हर  क्रूर,  वीभत्स  मनुष्य  को
आंखें  फाड़  कर
प्रकृति  भी
समझ  नहीं  पाती  कि  कैसे
कोई  मनुष्य
बदल  जाता  है  
हिंस्र  पशु  में

कहां  से  पाते  हैं  लोग
इतने  अमानवीय  संस्कार
जो  दूसरे  मनुष्य  को 
तब्दील  कर  देते  हैं
कीड़े-मकोड़ों  में ?

देखिए,  आपके  आसपास  भी 
मिल  जाएंगे  ऐसे  कुछ  अमनुष्य
जो  सत्ता  के  लिए 
गिर  सकते  हैं 
किसी  भी  सीमा  तक  !

ऐसे  हाथों  में  मत  सौंपिए
स्वर्ग-जैसे  सुंदर  देश  को  !

अपने  विवेक  को 
टटोलिए,  छू  कर  देखिए
और  तय  कीजिए
कि  चुनना  किसे  है  ?!!

                                                      (2014)

                                             -सुरेश  स्वप्निल

....

रविवार, 13 अप्रैल 2014

आप मुकर नहीं सकते...

इतना  अंधविश्वास 
मत  कीजिए  किसी  पर
कि  वास्तविकता  प्रकट  होने  पर
लज्जित  होना  पड़े
अपने-आप  पर  !

प्रचार  का  अर्थ  ही  है
उन  'गुणों'  का  दावा  करना
जो  व्यक्ति/वस्तु  में 
कभी  न  थे,  न  होंगे 
और  जिनको  लेकर 
कोई  मुक़दमा  भी  न  चलाया  जा  सके

सरासर  धोखे  का  व्यापार  है
प्रचार  का  विचार 

लोग  तो 
सब्ज़ी-भाजी  भी  ख़रीदते  हैं
तो  दर्ज़नों  तर्कों  के  बाद
आप  क्या  ऐसे  ही  सौंप  देंगे
देश  की  सत्ता  किसी  भी  अपात्र  को  ?
मात्र  प्रचार  से  प्रभावित  हो कर  ? ?

आप  भाग्य-विधाता  हैं  देश  के
आपकी  नैतिक  ज़िम्मेदारी  है
भावी  पीढ़ियों  के  लिए
कि  सत्ता 
सदैव  सही  हाथों  तक  पहुंचे
आप  मुकर  नहीं  सकते
इस  उत्तरदायित्व  से

सही  निर्णय  लीजिए
सही  समय  पर 
ताकि  भावी  पीढ़ियां 
गर्व  कर  सकें
आपके  विवेक  पर  ! 

                                                                  (2014)

                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

....



मंगलवार, 8 अप्रैल 2014

ख़तरनाक प्रयोग ...

कुछ  बातें 
कुछ  चीज़ें 
कुछ  सिद्धान्त 
कभी  नहीं  बदलते
मसलन,  कुत्ते  की  पूंछ
बंदर  की  गुलाटियां
सियारों  की  हुआं-हुआं  

मसलन,  ख़ाकी  नेकर 
और  काली  टोपियों  का  चरित्र

किसी  नरभक्षी  अहंकारी  की  आदतें
तो
कभी  भी  नहीं  बदल  सकतीं
किसी  भी  मूल्य  पर  !

जब  आप  सांप  पर  विश्वास  करते  हैं
कि  वह 
नहीं  डसेगा  आपको
ठीक  उसी  समय  वह 
तोड़  देता  है  आपका  विश्वास ...

आख़िर  क्यों  करते  हैं  आप
इतने  ख़तरनाक  प्रयोग 
बार-बार  ?

                                                               (2014)

                                                        -सुरेश  स्वप्निल

....

शनिवार, 5 अप्रैल 2014

चुनना है कुछ और भी ...

न  जाने  कितने  मुखौटे  हैं
एक-एक  मुखौटे  के  नीचे ...
क्या  कभी  सामने  आ  सकता  है
इन  मुखौटों  का  सत्य
इनका  असली  चेहरा ?

मनुष्य  इतना  ढोंगी
इतना  पाखंडी  कैसे  हो  गया
इतने  कम  समय  में  ?

अभी  बहुत  अधिक  दिन  नहीं  हुए
जब  गांधी-नेहरू
और  भगत  सिंह  जैसे  मनुष्य  भी 
जन्म  लेते  थे  इसी  देश  की  मिट्टी  में
और  लोकतंत्र  की  तथाकथित  अवधारणाओं  को
चुनौती  देते
चारु  मजूमदार  और  अवतार  सिंह  पाश  जैसे
दुर्दम्य  योद्धा  भी

हम  कहां  जा  रहे  हैं,  अंततः  ?
क्या  यह  अंत  है 
महान  भारतीय  सभ्यता  और  संस्कृति  का  ?
क्या  हम  उसी  राह  पर  तो  नहीं
जिस  पर  चल  कर 
नष्ट  हो  गई  थी  मया  संस्कृति
या  अफ़ग़ानिस्तान  या  इराक़ 
या  मिस्र  महान  की  सभ्यताएं  ???

प्रश्न  केवल  एक  लोकसभा-चुनाव  तक 
सीमित  नहीं  रह  गया  है  अब
हमें  चुनना  है  कुछ  और  भी
मसलन,  सौ  साल  बाद  के 
हमारे  वंशजों  का  भविष्य  भी  ! 

काश !  हमारा  विवेक  हमारे  साथ  ही  रहे
अपने  प्रतिनिधि  चुनते  समय ...

                                                                     (2014)

                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

....

शनिवार, 15 फ़रवरी 2014

आम आदमी के लिए ...!

कुछ  दिन  रह  आए  वे  भी
सत्ता  के  अंत: गृह  में
जो  हमेशा  भगा  दिए  जाते  थे  पहले
उस  गली  में  घुसने  से  पहले  !

दलित, वंचित  और  समाज  से  बहिष्कृत
सभी  को 
मिल  ही  गया  एक  अवसर
एक  नई  कर्म-संस्कृति  को 
जन्म  देने  का  !

कभी-कभी
लोकतंत्र  सचमुच  लगने  लगता  है
बड़े  काम  का  !
कभी-कभी
तंत्र  का  एक  न  एक  अंग
अचानक  जाग  उठता  है
अपने  कर्त्तव्यों  को  लेकर  !

लेकिन  जो  कुछ  भी  सार्थक 
नज़र  आता  है
वह  चार  दिन  का  तमाशा  ही  हो  कर
क्यों  रह  जाता  है ?

आख़िर  क्यों  नहीं  होता  ऐसा
लोकतंत्र  में
कि  संविधान  में  शामिल 
सारी  अच्छी  बातें 
सामान्य  लगने  लगें 
रोज़मर्रा  के  कामों  की तरह  ?

मिथक  तोड़  दिए  गए  हैं
और  द्वार  खोल  दिए  गए  हैं
सारी  लोकतांत्रिक  संभावनाओं  के
आम  आदमी  के  लिए
आम  आदमी  द्वारा  ! 

                                                       ( 2014 )

                                                -सुरेश  स्वप्निल 

...

शुक्रवार, 14 फ़रवरी 2014

मौसम की अनुशासनहीनता ...

सूर्य  ठगा-सा  रह  जाता  है
हर  बार
जब  मौसम  इन्कार  कर  देता  है
बदलने  से  !

आख़िर  हंसी-मज़ाक़   है  क्या
बार-बार  गर्म  कपड़े  तह  कर  रखना
और  फिर निकालना ...

जो  भी  हो,
यह  लगभग  तय  होता  जा  रहा  है
कि  मौसम
अनुशासन-विहीन  हो  गया  है  आजकल
अब  तो  वह
भू-गतिकी  के  नियम  भी  नहीं  मानता  !

सच  कहा  जाए
तो  अशुभ-संकेत  हैं  ये  लक्षण
पृथ्वी  के  स्वास्थ्य  के  लिए 
नितांत  घातक  !

सूर्य  की  सत्ता  का  निर्बल  होना
हमारे  पक्ष  में  नहीं  है
मगर  मौसम  की  अनुशासनहीनता  का  कारण
कौन  है  और
हमारे  सिवा ???

                                                                              ( 2014 )

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

...

सोमवार, 10 फ़रवरी 2014

ज़रूरत से ज़्यादा कमाने वाले

ज़रूरत  से  ज़्यादा  कमाते  हैं
कुछ  लोग
अपनी  वास्तविक  ज़रूरतों  से
बहुत  ज़्यादा
अपने  घर-परिवार  और  क़ुनबे  की
ज़रूरतों
स्वयं  अपनी  आशाओं
माता-पिता  के  स्वप्नों  
और  अपनी  तनख़्वाह  से  भी
कई  गुना  ज़्यादा  !

वे  जितना  कमाते  हैं
उससे  ज़्यादा  ख़र्च  करते  हैं
ऋण  ले-ले  कर
फिर  चुकाने  के  लिए 
और  ज़्यादा  कमाते  हैं 

कभी  रिश्वत  से 
कभी  कमीशन  से

उनके  दफ़्तर  में  पोस्टर  लगा  होता  है
'रिश्वत  लेना  और  देना
दोनों  अपराध  हैं !'

वे  नहीं  मानते  क़ानूनों  को
वे  नहीं  डरते  समाज  की  निंदा  से
वे  पकड़े  भी  जाते  हैं  रंगे  हाथ
तो  उनका  बाज़ार-मूल्य  बढ़  जाता  है  !

वे  अपनी  अतिरिक्त  कमाई  का
कुछ  हिस्सा
नियमित  रूप  से  चढ़ाते  हैं
तिरुपति  और  शिर्डी  के  भगवानों  को
और  अपने  से  ऊंचे अफ़सरों  को  !

उनके  बच्चे 
मंहगे  पब्लिक  स्कूलों  में  पढ़ते  हैं
देश  और  विदेश  में
और  बड़े  हो  कर 
अफ़सर,  उद्योगपति,
बड़े  व्यापारी  बनते  हैं  
अपने  माता-पिता  से  भी  ज़्यादा
कमाने  लगते  हैं....

न्याय-अन्याय,  उचित-अनुचित,  पाप-पुण्य,
अपराध  और  दण्ड
किसी  बात  का  भय  नहीं  होता
उन्हें  ...

वे  हमारे  महान  देश  की 
महान  प्रतिभाएं  हैं
संसार  के  योग्यतम  व्यक्ति...

यही  हैं  वे  लोग
जो  आम  आदमी  के 
ख़ून  के  प्यासे  हैं 
इन्हीं  का  राज  चलता  आया  है
कई  शताब्दियों  से !

यही  हैं  वे  लोग
जो  ज़रूरत  से  ज़्यादा  कमाते  हैं
और 
जिनकी  क़ौम  को  नष्ट  करने  की
क़सम  खाई  है  हमने  !

                                                          ( 2014 )

                                                    -सुरेश  स्वप्निल

....

रविवार, 9 फ़रवरी 2014

मारा जाएगा तानाशाह...!

जिस  दिन
सच  बोलेगा  तानाशाह
मारा  जाएगा
उसी  दिन  !

सच  बोलना
चाहता  भी  नहीं  वह
भय  लगता  है  उसे
सच  को  स्वीकारने  में
कि  वह 
सच  बोलते  ही
शामिल  हो  जाएगा
आम  लोगों  की  भीड़  में  !

तानाशाह  मानता  है
कि  अति-मानव  है  वह
किसी  भी  अन्य  मानव  की  तुलना  में
यद्यपि  वह  स्वयं  जानता  है
कि  सच  नहीं  है  यह  …

क्या  सचमुच  इतना  डरता  है
तानाशाह
अपनी  मृत्यु  से  ??

वह  जीना  चाहता  है
किसी  भी  मूल्य  पर
चाहे  इसके  लिए
कितने  ही  मनुष्यों  कि  बलि
क्यों  न  लेना  पड़े  उसे  !

फिर  भी
कहीं  न  कहीं  अपने  अंतर्मन  में
अच्छी  तरह  से  जानता  है  वह
कि  मरना  ही  होगा  उसे  भी
एक  दिन  !

दरअसल,  हर  तानाशाह  डरता  है
अपनी  मृत्यु  से
क्योंकि  जानता  है  वह
कि  मृत्यु  से  बड़ा  सच
और  कुछ  नहीं  होता  …

जिस  दिन  वह
मृत्यु-भय  से  मुक्त  होगा
और  सच  बोलने  का  साहस  करेगा
उसी  दिन  मर  जाएगा

उसे  किसी  अन्य  शत्रु  की
ज़रूरत  नहीं  है
मरने  के  लिए
उसकी  अंतरात्मा  काफ़ी  है
और  उसके  पापों  का  बोझ  भी
उसे  मुक्ति  दिलाने  के  लिए  !

तानाशाह  से  मुक्ति  चाहिए
तो  प्रेरित  कीजिए  उसे
सच  बोलने  के  लिए  !!!

                                                         ( 2014 )

                                                   -सुरेश  स्वप्निल 

शनिवार, 8 फ़रवरी 2014

क्या करोगे अब ?

सावधान,  पक्षियों  !
बहेलिया  घूम  रहा  है
वन-प्रांतर  के  कोने-कोने  में
जाल  फैलाता
सब  पक्षियों  को
उनके  मनपसंद
दाने  डाल  कर  लुभाता  हुआ …

बहेलिए   की  मानसिक  प्रवृत्ति
तुम  से  बेहतर
और  कौन  जान  सकता  है  भला  ?

सारे  पशु-पक्षियों  को  भी
चेता  दो  ज़रा
कि  सारी  वन्य-प्रजातियां
सचमुच
बहुत  बड़े  संकट  में  हैं

केवल  एक  ही  अवसर  तो
चाहिए  होता  है
बहेलिए  को
वन  को  प्राणी-विहीन  बनाने  की
प्रक्रिया  शुरू  करने  के  लिए  !

बात  केवल  वन्य-प्राणियों  की
नहीं  है
इस  बार  दांव  पर  है
वन  का  सारे  का  सारा  पर्यावरण
पेड़-पौधे,  ज़मीन  और  जल
खनिज  और  शीतल  समीर  तक  …

बहेलिए  को  अवसर  मत  दो
बहेलिए  और  उसके  संगी-साथी
व्यापारियों  को …

क्या  करोगे  अब
बहेलिए  को  मार्ग  दोगे
वन  पर  राज  करने  का  ?

                                                ( 2014 )

                                         -सुरेश  स्वप्निल



मंगलवार, 4 फ़रवरी 2014

56 इंच का सीना...!

तलवार  कह  रही  है
मुझे  ख़ून  चाहिए ...

जब  तक  तलवार  का  होना  ही
अपने-आप  में 
पर्याप्त  कारण  है
तानाशाहों  के  जन्म  का
और  मनुष्यता  के  अवसान  का !

शायद  ही  कोई  अन्य  आविष्कार  हो
मनुष्य-जाति  का 
जो  इतना  बड़ा  शत्रु  हो
स्वयं  अपने  ही  जन्म-दाता  का  !

तानाशाह  चाहता  है 
अपनी  भोथरी  तलवार  के  दम  पर
सिकंदर  बन  जाना
यह  जानते  हुए  भी 
कि  अब 
देवी-देवता  भी  ए.के. 56  रखते  हैं
अपने  हाथ  में  !

लेकिन  तलवार  की  प्यास 
बुझती  नहीं 
इतनी  सरलता  से
चाहे  किसी  सैनिक  के  हाथ  में  हो
या  तानाशाह  के...

यदि  युद्धोन्माद  पूरा  नहीं  हुआ
तानाशाह  का 
तो  स्वयं  उसी  के  प्राण  भी 
मांग  सकती  है 
तलवार....

आख़िर  और  कहां  मिलेगा
56 इंच  का  सीना  तलवार  को
अपनी  प्यास  बुझाने  को  ?!!!

                                                             ( 2014 )

                                                      -सुरेश  स्वप्निल

...

गुरुवार, 30 जनवरी 2014

दुर्भाग्य से, महाराज ...

हे  धर्म-इतिहास-संस्कृति  के
परम  ज्ञाता
महाराज …
आपको  स्मरण  नहीं  क्या
कि  तिल-भर  भूमि  के  लिए
लड़ा  गया  था
मनुष्यता  के  इतिहास  का
दुर्द्धर्ष-तम  युद्ध…

हां,  यह  सत्य  है
कि  उस  महाभारत  में  नहीं  थी
हम  किसानों  की  कोई
सक्रिय  भूमिका
किंतु  इस  बार
चैन  से  नहीं  जीने  देंगे  हम
अपने  खेतों  पर
कुदृष्टि  डालने  वालों  को

सत्य  यह  भी  है
कि  इस  बार  हर  महाभारत
राज-परिवारों  के  बीच  नहीं
होगा  किसान  और  हर  राजवंशी  के  बीच

हमारी  चुनौती  है
कि  इस  बार
हमारे  घर  का  कोई  अभिमन्यु,
कोई  घटोत्कच
या  कोई  भी  एकलव्य
प्राण  नहीं  देगा
अन्यों  की  राज-लिप्सा  के  कारण !

बस  करो,  महाराज
अनंत  उर्वरा कृषि-भूमि  का
मात्र  स्वार्थ  के  लिए  व्यापार !
मत  करो  पूंजीपतियों  की
अनुचित  दलाली
मत  बेचो  अपनी  आत्मा
क्षण-भंगुर  राज-सत्ता  के  लिए...

इस  समय  का  सबसे  बड़ा  सत्य
यही  है  महाराज
कि  हर  किसान  सन्नद्ध  है
अपने  और  अपनी  भावी  पीढ़ियों  के
हितों  की  रक्षा  के  लिए
और  तैयार  है
संसार  की  किसी  भी  महाशक्ति  के  विरुद्ध
युद्ध  के  लिए !

दुर्भाग्य  से,  महाराज
तुम्हारा  अंतिम  सत्य  यह  है
कि  तुम
जानते  ही  नहीं  कि  इस  बार
केवल  पराजय  ही  रह  गई  है
तुम्हारे  हाथ  में  !

                                                            ( 2014 )

                                                     -सुरेश  स्वप्निल 

...


बुधवार, 29 जनवरी 2014

क्या देंगे विरासत में ?

शब्द  बचे  ही  कहां  हैं
अब  गांठ  में
कि  ख़र्च  कर  दिए  जाएं
कविताई  में  !

बहुत  मुश्किल  से  सहेजी  थी
यह  पूंजी  पुरखों  ने
और  हमारे  समय  में
पता  नहीं  कहां-कहां  से  चले  आए
इसे  लूटने  वाले …
और  हमारी  पीढ़ी  इतनी  कृतघ्न
कि  ज़रा-से  प्रलोभन  पर
बिकते  रहे,  बेचते  रहे  अपनी  नैतिकता
ईमानदारी,  संस्कार,  विवेक…

किसी  ने  नहीं  सोचा  कभी
कि  क्या  देंगे  विरासत  में
अपने  बाल-बच्चों  को
यदि  शब्द  भी  नहीं  हाथ  में  !

                                                             ( 2014 )

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

रविवार, 26 जनवरी 2014

वह गणतंत्र हमारा है !

ख़ूनी  सरमायादारों  का
पूंजी  के  ताबेदारों  का
सारे  कुत्सित  व्यापारों  का
बिके  हुए  अख़बारों  का 
जो  मारा  है
वह  गणतंत्र  हमारा  है !

नेताओं  की  लूटमार  से
सरकारों  के  जन-संहार  से
जाति-धर्म  के  कार-बार  से
मंहगाई  की  तेज़  धार  से
बार-बार  जो  हारा  है
वह  गणतंत्र  हमारा  है  !

अमरीकी  घुड़की   के  आगे
घुटनों  के  बल  खड़ा  हुआ  है
विश्व-बैंक   के  दरवाज़े  पर
औंधे  मुंह  जो  पड़ा  हुआ  है
वॉलमार्ट  से  मोनसैंटो
सबका  एक  सहारा  है
वह  गणतंत्र  हमारा  है  !

                                                 ( 2014 )

                                           -सुरेश  स्वप्निल

शुक्रवार, 24 जनवरी 2014

उठो, साथी !

जो  अधमरा  शरीर
सड़क  पर  पड़ा  है
वही  है  महान  भारत  का
भिखमंगा गण !
और जो खड़ा है
उस अधमरे  शरीर के  सीने  पर
पांव  रख  कर
वही  है  तंत्र !

हास्यास्पद  कहें  या  वीभत्स
मगर  सत्य  यही  है
कि  हर  अधिनायक  इस  देश  का
चुना  जाता  है
तथाकथित  रूप  से
इसी  'गण'  से  मत  ले  कर !

यह  समय  शोक  मनाने  का  नहीं  है
जैसे  मरते  हुए  केंचुए  में  रह-रह  कर  उठती  है
जीवन  की  लहर
जैसे  पारंपरिक  युद्धों  में
सिर  कट  जाने  के  बाद  भी
लड़ते  रहते  थे  रुंड
ठीक  उसी  तरह  अचानक
न  जाने  कब  उठ  खड़े  होंगे
सड़क  पर  पड़े  हुए  गण
अपनी  घायल  देह  लिए ...

सारा  संसार  जानता  है
कि  यही  गण  है
जो  भयंकरतम  शस्त्रास्त्र  को
अपनी  दुर्बल  काया  पर  झेल  कर
किसी  भी  महानायक
किसी  भी  अधिनायक  की  सत्ता  को
मिट्टी  में  मिला  देता  है
समय  आते  ही  !

समय  कब  आएगा  मगर
अगली  बार  ?

उठ  जाओ,  महान  भारत  के  महा-मनुष्य
बहुत  हो  चुकी  हिंसा-प्रतिहिंसा
बहुत  हो  चुके  भ्रम-विभ्रम
एक  लक्ष्य
एक  मार्ग
गण  की  क्रांति
जन-जन  की  क्रांति  !

उठो,  साथी  !
मृत्यु  का  डर  जिसे  हो
वह  योद्धा  नहीं
और  'जन-गण-मन'  तो
कदापि  नहीं ! 

                                                                 ( 2014 )

                                                            -सुरेश  स्वप्निल 

...


शनिवार, 18 जनवरी 2014

सामंत की बकरी ...!

च्च च्च च्च च्च !
बहुत  बुरा  हुआ  सचमुच
सामंत  की  बकरी  मर  गई  !

सामंत  का  दुःख  बहुत  बड़ा  होता  है
शोक  मनाओ,  मूर्खों  !
अपनी  बकरियों  की  चिंता  करो, 
हानि  उठाने  के  लिए  नहीं  होता
सामंत  का  जन्म  !
आज  नहीं  तो  कल
आ  ही  धमकेंगी
सामंत  की  सेनाएं
क्या  पता  किसकी  बकरी  पर
मन  आ  जाए
सैनिकों  का  !

मीडिया  से  सबक़  सीखो

अपने  चेहरों  पर  कालिख़  पोत  लो
मातम  मनाओ
और  अपनी  बकरियों  को
बांध  कर  रखो  बाड़े  में  …

मज़ाक़  नहीं  है
सामंत  की  बकरी  का  मरना  !

                                                         ( 2014 )

                                                    -सुरेश  स्वप्निल

शुक्रवार, 17 जनवरी 2014

हत्प्रभ है पुराना जादूगर !

बहुत  परेशान  है  जादूगर
आजकल !

सारे  मंत्र  निर्जीव  होते  जा  रहे  हैं
सारी  युक्तियां  निष्प्राण
दर्शक-दीर्घा  सूनी  हो  रही  है
निरंतर...

जादूगर  को  काठ-सा  मारता  जा  रहा  है
कुछ  समय  से
जब  से  एक  नया  जादूगर  आ  गया  है
शहर  में
मंत्र  पुराना  जादूगर  पढ़ता  है
प्रभाव  प्रकट  होता  है
नए  जादूगर  के  मंच  पर ...

पुराना  जादूगर  हत्प्रभ  है
कि  कैसे  उसकी  जादुई  शक्तियां
काम  करने  लगी  हैं
उसके  शत्रु  के  पक्ष  में  !

सरासर  यह  शक्तियों  की  चोरी  का
षड्यंत्र  है
पता  नहीं  किसका  मस्तिष्क 
काम  कर  रहा  है
इस  सबके  पीछे

दुर्भाग्य  यह  है  कि
विधि  की  पुस्तकों  में 
अपराध  की  श्रेणी  में  नहीं  आता
यह  कृत्य  !

उसकी  शक्तियां  यदि  काम  कर  रही  होतीं
पूर्ववत
तो  पता  नहीं,  कब  का
ठिकाने  लगा  चुका  होता  वह
नए  जादूगर  को...
जैसे  अपने  हज़ारों  तथाकथित 
शत्रुओं  को  लगा  चुका  है  अभी  तक !

यहां  तक  भी  ठीक  था
किंतु  उसके  अपने  प्रशंसक  भी
न्याय-अन्याय  की  बात  करने  लगे  हैं
नए  जादूगर  के  प्रभाव  में  आ  कर !

यद्यपि  अनावश्यक  है  यह  कथन
कि  सबको  देना  पड़ता  है
अपने  कर्मों  का  हिसाब
इसी  जन्म  में
परंतु  मन  नहीं  मानता
पुराने  जादूगर  का ...

क्या  ईश्वरत्व  को  प्राप्त  कर  चुका
कोई  मनुष्य
फिर  से
प्राप्त  हो  सकता  है
साधारण  मनुष्यत्व  को  ?

इस  प्रश्न  का  उत्तर
केवल  वही  जानते  हैं
जो  विश्वास  करते  हैं  
दैवीय  शक्तियों  में  

हम  तो  दर्शक-मात्र  हैं 
इस  खेल  के...!


                                          ( 2014 )

                                     -सुरेश  स्वप्निल 

...



बुधवार, 15 जनवरी 2014

भेड़ों का उत्तरदायित्व !

फिर  एक  बार
सौंप  दिया  गया  है
रेवड़ों  का  उत्तरदायित्व
अन्धों  के  हाथों  में
इस  गहन  विश्वास  के  साथ 
कि  हर  शाम  आ  जाएंगी  सुरक्षित
सभी  भेड़ें
अपने  बाड़े  में !

काश !  सारे  मांसाहारी  वन्य-जीव
इस  'सदाशयता'  को  समझ  पाते !

समय  हालांकि  फिर  उपस्थित  है
रेवड़ों  के  चरवाहों  के  चुनाव  का

सबसे  अधिक  उत्कंठित  हैं
मांसाहारी  जीव
यदि  किसी  दृष्टिवान  के  हाथ 
सौंप  दी  गई  भेड़ों  की  कमान,  तो  ?

कुछ  उत्तरदायित्व  भेड़ों  का  भी  है
शायद
अपने  प्राण  बचाने  का !!!

                                                            ( 2014 )

                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

...



रविवार, 12 जनवरी 2014

बदलाव का उत्तरदायित्व...

दुःख-भरी  कविताओं  से
कहीं  अधिक  भयंकर  है
आधुनिक  समय  का  यथार्थ

दुर्भाग्य  यह  है
कि  यथार्थ  को  बदलने  का 
उत्तर-दायित्व
जिन  शक्तियों  पर  है
वे  सब  की  सब 
विरोधी  हैं  जनता  की
और  केवल  जन-शत्रु  ही  हैं
जो  सुखी  हैं
इस  क्र्रूर  समय  में...

उस  जनता  को 
कोई  अधिकार  नहीं  शिकायत  करने का
जो  खड़ी  नहीं  होती
अन्याय  के  प्रतिकार  के  लिए
और  चुपचाप  सहती  रहती  है
हर  अत्याचार...

लोकतंत्र  है
तो  व्यवस्था  बदलने  का  जिम्मा
तंत्र  से  अधिक  है
लोक  पर !

अब  समय  बहाने  बनाने  का  नहीं
व्यवस्था  बदलने  का  है
और  सरकार  बदलने  का भी  !

                                                              ( 2014 )

                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

...
 

शनिवार, 11 जनवरी 2014

संकट की इस घड़ी में...

रक्त  के   दबाव  से
फटने  लगी  हैं
धमनियां  और  शिराएं

मौसम  इतना  क्रूर  कैसे
होने  लगा  है  आजकल  ?

हां,  यह  सत्य  है  कि  इसकी  पृष्ठभूमि
तैयार  की  है
कुछ  जाति-द्रोही  मनुष्यों  ने
जो  नहीं  चाहते  कि  प्रकृति
एक  समान  व्यवहार  करती  रहे
संसार  के  सभी  मनुष्यों 
और  अन्य  प्राणियों  के  साथ
कि  जो  मानते  हैं  अपने  को
संसार  का  नियंता
अपनी  गोरी  चमड़ी  के  दम्भ  में
और  बुद्धि  के  अतिरेक  में
बिना  यह  समझे
कि  प्रकृति  ने 
समान  ही  जन्म  दिया  है
तमाम  नस्लों  को

वे  अन्यायी  यह  भी  नहीं  जानते
कि  जब प्रकृति  प्रतिशोध  लेती  है
तो  नहीं  देखती
काली  और  गोरी  त्वचा  का  फ़र्क़

यद्यपि  हम  समर्थन  करते  हैं
प्रकृति  के  प्रतिशोध  का
किंतु  निर्दोष  प्रजातियों  पर  
उचित  नहीं  अकारण  इतना  अत्याचार

यदि  प्रकृति  ही  भूल  जाए
दोषी  और  निर्दोष  का  अंतर...
तो  मुश्किल  नहीं  होगा  क्या
पृथ्वी  के  समय-चक्र  का  चलना ?

प्रकृति  स्वयं  बताए
कि  निर्दोष  मनुष्य  क्या  करें
संकट  की  इस  घड़ी  में  ? 

                                                            ( 2014 )

                                                      -सुरेश  स्वप्निल 

...