Google+ Badge

रविवार, 26 जनवरी 2014

वह गणतंत्र हमारा है !

ख़ूनी  सरमायादारों  का
पूंजी  के  ताबेदारों  का
सारे  कुत्सित  व्यापारों  का
बिके  हुए  अख़बारों  का 
जो  मारा  है
वह  गणतंत्र  हमारा  है !

नेताओं  की  लूटमार  से
सरकारों  के  जन-संहार  से
जाति-धर्म  के  कार-बार  से
मंहगाई  की  तेज़  धार  से
बार-बार  जो  हारा  है
वह  गणतंत्र  हमारा  है  !

अमरीकी  घुड़की   के  आगे
घुटनों  के  बल  खड़ा  हुआ  है
विश्व-बैंक   के  दरवाज़े  पर
औंधे  मुंह  जो  पड़ा  हुआ  है
वॉलमार्ट  से  मोनसैंटो
सबका  एक  सहारा  है
वह  गणतंत्र  हमारा  है  !

                                                 ( 2014 )

                                           -सुरेश  स्वप्निल

कोई टिप्पणी नहीं: