Google+ Badge

गुरुवार, 23 अक्तूबर 2014

यह कैसी दीवाली है ?

अंधियारे  ने
फिर  फैलाया
उजियारे  पर
अपना  जादू

ज़हर  भरा  है  नभ  के  मन  में
रात  अभी  भी  काली  है
दीपक  तले  अंधेरा  छाया
यह  कैसी  दीवाली  है  ?

धरती  के 
बेटों  ने  चाहा
अंबर  के 
तारे  तोड़ें, पर

हाथ  लगे  माटी  के  दीपक
क़िस्मत  उनकी  काली  है

उजियारे  के
भ्रम  में  जीना
कोई  अच्छी 
बात  नहीं 

टिमटिम  करते  इस  दीपक  की
लौ  बुझने  ही  वाली  है  !

                                                                     (दीपावली, 1979)

                                                                     -सुरेश  स्वप्निल

...

गुरुवार, 16 अक्तूबर 2014

विद्रोह की सिंफ़नी

वही  हुआ
जिसकी  आशंका  थी
एक-एक  कर 
क़ैद  में  डाल  दिए  गए
सारे  शब्द  !

विद्रोही  शब्दों  को
ढूंढ-ढूंढ  कर
ले  आया  गया  चौराहे  पर
और  गोली  मार  दी  गई....
सरे-आम  !

वे  नहीं  जानते
रक्त-बीज  होते  हैं  शब्द
धरा  पर  गिरे  रक्त  की  हर  बूंद  से
जन्म  लेते  चले  जाएंगे 
हज़ारों-लाखों  शब्द
सब  के  सब 
विद्रोही
अपनी  पहली  सांस  से  ही 
विद्रोह  की  सिंफ़नी  रचते  हुए  !

संसार  का  सबसे  आत्मघाती  क़दम  है
सत्ताधारियों  के  लिए
विद्रोही  शब्दों  की  हत्या  करना  !

                                                                         (2014)

                                                               -सुरेश  स्वप्निल

....