Google+ Badge

गुरुवार, 20 नवंबर 2014

ईश्वर का अवतार !

भ्रम  कहां  टूटते  हैं
इस  देश  में  ?

एक  भ्रम  टूटता  लगता  है
तो  और  सौ  नए  भ्रम
पैदा  कर  दिए  जाते  हैं

समाज  के  हर  छोर  से
प्रकट  हो  जाते  हैं
भ्रमों  के  समर्थक
भीड़  बढ़ती  चली  जाती  है
हर  भगवा, हर  हरे  रंग  के  लिबास  वालों  के
इर्द-गिर्द  !

जो  लोग  बिना  भ्रम  के
जीना  चाहते  हैं
वे  क़रार  दिए  जाते  हैं
धर्म  और  राष्ट्र  के  शत्रु 
यहां  तक  कि  आतंकवादी  भी  !

शासक-वर्ग  चाहता  है
हर  भ्रम  के  आस-पास  जुटने  वाली
भीड़  को  बढ़ाते  जाना
अगले  चुनाव  में
वोटों  की  फ़सल  काटने  के  लिए 
और  हम  हैं
कुछ  नास्तिक,  अनीश्वरवादी
हर  भ्रम  के  विरुद्ध
सीना  तान  कर  खड़े  हो  जाने  वाले
सेना,  पुलिस  और  'धर्म-रक्षकों'  से
दो-दो  हाथ  करने  !

आप  चाहें  तो
कह  सकते  हैं  मुझे  भी 
एक  नया  भ्रम
किसी  और  ईश्वर  का  अवतार  !

                                                                    (2014)

                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

...



मंगलवार, 18 नवंबर 2014

शास्त्र या शस्त्र

सभ्यता
और  शिष्टाचार  के  विपरीत
कहना  पड़  सकता  है
बहुत-कुछ
आज  मुझे

कुछ  अ-सांस्कृतिक 
और  अ-श्लील  शब्द
संभवतः,  उधार  लेकर 
अपने  शत्रुओं  की  भाषा  से

शस्त्र  भी  उठाने  पड़  सकते  हैं
शायद ...

हिंस्र  पशुओं  के  समक्ष
शब्द  असफल  हो  जाते  हैं
अक्सर

शास्त्र  या  शस्त्र
चुनाव  तो  करना  ही  होगा
अब !

                                                                (2014)

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

...

शनिवार, 8 नवंबर 2014

अलोकप्रिय हो जाना...

बबूल  हो  जाना  ही
श्रेष्ठ  विकल्प  है
लकड़हारों  के  देश  में
तन  की  सुरक्षा
और  मन  में
अनधिकृत  प्रवेश  
रोकने  के  लिए ...

अस्मिता  बनाए  रखने  के  लिए
बेहतर  है
अलोकप्रिय  हो  जाना !

                                                                (2014)

                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

....

शुक्रवार, 7 नवंबर 2014

असंभव....

असंभव  है
समुद्र  की  तलहटी  को
भेद  कर
अंतरिक्ष  में  छलांग  लगाना
और  अपनी  मुट्ठी  में
चांद-तारे  क़ैद  कर  लाना

संसार  की  नवीनतम  तकनीक
और  सर्व-सक्षम  मशीनों
और  सबसे  शक्तिशाली
मनुष्य  के  लिए

यहां  तक  कि
कवि  के  मन
और  कल्पनाशक्ति  के  लिए  भी  !

आसान  है
असंभव  को  लक्ष्य  बना  कर
स्वयं  को
और  समाज  को
भ्रमित  कर  लेना  !

                                                                     (2014)

                                                             -सुरेश  स्वप्निल 

... 

गुरुवार, 6 नवंबर 2014

हरसिंगार: दो कविताएं

हरसिंगार : एक
ठीक   नहीं
मन  को  हरसिंगार
बना  लेना

सारी  संवेदनाएं
झर  जाती  हैं
धीरे-धीरे

और  तुम्हें
पता  भी  नहीं
चलता  कभी  !

हरसिंगार: दो 

क्या  फ़ायदा 
हरसिंगार  होने  से 
अब  यहां

लोग  अब
दुआ  मांगने  भी
नहीं  आते

कोई  आंचल
नहीं  फैलाता  अब
सुंदरता  बटोरने  !

                                                              (2014)

                                                    -सुरेश  स्वप्निल

...

मंगलवार, 4 नवंबर 2014

मौलिश्री, पलाश और अमृताश


क्यों  लगता  है  तुम्हें
कि  मैं
नहीं  जानता  गुलाबों  के
रंग  के  बारे  में

कि  मुझे  नहीं  पता
हरित  चम्पा  की  गंध
और  केवड़े  के
कांटों  के  बारे  में  ?

मैं
मौलिश्री  के  फूलों  की
माला  पहनता  था
गले  में 
और  पलाश
और  अमृताश  के  फूलों  से
रंगोली  बनाता  था
बचपन  में ....

वस्तुतः,  बहुत-कुछ
झाड़ना-बुहारना
काटना-छीलना
और  अलग  करना पड़ेगा
तुम्हें
मेरे
और  ख़ुद  के  अन्तर्मन  से
मेरे  पास  तक  आने  के  लिए  !

                                                                         (2014)

                                                                -सुरेश  स्वप्निल 

....