Google+ Badge

शनिवार, 17 मई 2014

...कोई और सारथि !

शत्रु  की  पताका
फहरा  रही  है
हस्तिनापुर  पर  !

हे  पार्थ !
कौन  था  तुम्हारा  सारथि
किसने  की  थीं 
व्यूह-रचनाएं
कहां  खो  गया 
तुम्हारे  योद्धाओं  का  साहस
उनका  आत्म-बल ?

न,  पार्थ  !
पराजय  के  दंश  से  बड़ा
कोई  घाव  नहीं  होता
कोई  अपमान  बड़ा  नहीं  होता
पराजय  के  अपमान  से

इतनी  ग्लानि,  इतनी  पीड़ा
सह  सकोगे  तुम  ?

प्रतिशोध  की  ज्वाला 
बुझ  तो  नहीं  गई
तुम्हारे  ह्रदय  में  ?

सीखना  ही  होगा  तुम्हें
पराजय  को  विजय  में  बदलना
करनी  ही  होंगी  पूरी
अपेक्षाएं
दीन-हीन  नागरिकों  की 
फहरानी  ही  होगी  फिर  से
अपनी  पताका
हस्तिनापुर  पर ...

अबकी  बार 
चुन  लेना  कोई  और  सारथि  !

                                                             ( 2014 )

                                                       -सुरेश  स्वप्निल

...