Google+ Badge

शनिवार, 28 जून 2014

अगली पीढ़ियों के नाम

भय  नहीं  लगता  हमें  अब
समय  से
संयोग  से
सरकार  से
लाठियों  से
गोलियों  की  मार  से

डर  गए  तो
मुश्किलें  बढ़  जाएंगी  !

हो  चुका  डरना  बहुत  दिन
उम्र  सारी 
कट  गई  प्रतिरोध  में
अन्याय  के
अब  क्या  डरेंगे
मृत्यु  जब  पल-पल 
निकट तर  आ  रही  हो

जिस  तरह  सारे  मरेंगे
उस  तरह  मर  जाएंगे
हम भी

मगर  कह  जाएंगे 
निर्द्वंद  हो  कर
बात  अपनी 
छोड़  जाएंगे  कई  संदेश
अगली  पीढ़ियों  के  नाम  से  !

                                                            (2014)

                                                      -सुरेश स्वप्निल 

...