Google+ Badge

शनिवार, 8 नवंबर 2014

अलोकप्रिय हो जाना...

बबूल  हो  जाना  ही
श्रेष्ठ  विकल्प  है
लकड़हारों  के  देश  में
तन  की  सुरक्षा
और  मन  में
अनधिकृत  प्रवेश  
रोकने  के  लिए ...

अस्मिता  बनाए  रखने  के  लिए
बेहतर  है
अलोकप्रिय  हो  जाना !

                                                                (2014)

                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

....