Google+ Badge

गुरुवार, 29 अक्तूबर 2015

वे हाथ ...

वे  हाथ 
जो  तोड़ते  हैं  पत्थर 
लिखते  हैं 
सुंदरतम  कविताएं 
इतिहास  के  माथे 
और  भविष्य  की  छाती  पर... 

वे  हाथ 
किसी  भी  क्षण 
बदल  सकते  हैं 
वर्त्तमान  की  दिशा  और  गति 
रंग-रूप 
और  आकार  ! 

कर्णधारों  ! 
गर्व  मत  करो 
अपनी  क्रय-शक्ति 
और   अपने  
विक्रय-मूल्य  पर ।

                                                                             (2015) 

                                                                      -सुरेश  स्वप्निल

रविवार, 18 अक्तूबर 2015

मानव-रक्त का रंग ...

लो,  वे  आ  गए
अपनी  सेनाएं  ले  कर

वे  जानते  हैं
हम  कहां-कहां  छिप  सकते  हैं
कौन-कौन  से  हथियार  जुटा  सकते  हैं
और  लड़  सकते  हैं  कितने  दिन

सिर्फ़  यह  नहीं  जानते  वे
कि  हम  मर  भी  जाएं  तो  बहुत-कुछ 
छोड़  जाएंगे
आगामी  पीढ़ियों  के  लिए
एक  जलती  आग
जो  बहुत  देर  तक  ज़िंदा  रहेगी
कदाचित
अगली  कई  सदियों  तक
और  अपने  पुरखों  की  कहानियां
जो  चैन  से  नहीं  जीने  देंगी
न  हमारे  वंशजों  को
न  उनके !

विडम्बना  यह  है 
कि  शत्रु  वे  नहीं  हैं  हमारे
वे  तो  मोहरे  हैं  उन  हाथों  के
जो  ख़रीदना  जानते  हैं
सब-कुछ 
अपनी  पूंजी  के  दम  पर
यहां  तक  कि 
सरकारों  के  ईमान  भी  !

यह  व्यापार  कौन-सा  है
जो  बदल  देता  है 
मानव-रक्त  का  रंग  ?

                                                                           (2015)

                                                                    -सुरेश  स्वप्निल 

...

शनिवार, 17 अक्तूबर 2015

आईने का सामना...

तुम  अगर  चाहो 
तो  पत्थरों  पर  लिख  दो
कविता

या  उठा  लो  हाथ  में  उन्हें
हथियार  की  तरह ...

चुनाव  तुम्हारा  है
चाहो  तो  बदल  दो  शक्ल-सूरत
अपने  समय  की
या  स्वीकार  कर  लो
यथास्थिति  को
कायर  राष्ट्रवादियों  की  तरह !

बड़ा  आसान  रास्ता  है  न
हर  पत्थर  को  तराश  दो
किसी  देवता  की  शक्ल  में
और  हासिल  कर  लो  पुरस्कार
कई-कई  अकादमियों  के !

याद  रखना  कि  तुम्हें 
रोज़  करना  है 
आईने  का  सामना !

                                                                               (2015)

                                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

...

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

जंगल जानता है ...

'तुम  उस  दिन  मारे  जाओगे
जब
जंगल  तुम्हारे  घर  आएगा !'
सैकड़ों  साल  हो  गए
इस  बात  को  क़लम  से 
और  जंगल
आज  तक  नहीं  पहुंचा
सत्ताधीश  के  घर  तक !

लेकिन  कोई  समस्या  नहीं
जंगल  की  गहराई  में  देर  है
अंधेर  नहीं

कुछ  दिन  और  इंतज़ार  करो,  तानाशाह  !
जंगल  आ  ही  रहा  है
तुम्हारे  घर  की  तरफ़

तुम  चाहो  तो 
तोप-तलवार  ले  आओ  अपने
हमारी  अदना-सी  क़लम  के  मुक़ाबले  !

जंगल  जानता  है
तोप-तलवार
और  क़लम  का  फ़र्क़  !

                                                                            (2015)

                                                                    -सुरेश  स्वप्निल 

...

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2015

अब बस भी करो ...

अरे ! आज  दो  अक्टूबर  है
और  बापू 
आज  राजघाट  पर  नहीं  हैं ...

वे  गए  हैं  बसहड़ा
गांव  की  गलियों  में

अख़्लाक़  अहमद  का  ख़ून  साफ़  करने !

भक्त  जन !
अब  बस  भी  करो
नौटंकी !

                                                                                 (2015)

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

...


शनिवार, 15 अगस्त 2015

रख ले, भैये ! यह आज़ादी

रख  ले,  भैये !
यह  आज़ादी  तू  ही  रख  ले

लूट-मार  कर  खाने  वाली
सब  का  हक़्क़  दबाने वाली
सब  का  गला  काटने  वाली
हर  आज़ादी 
तू  ही  रख  ले !

लाल  क़िले  के  ऊपर  चढ़  जा
हाथ  उठा  कर
खुल  कर  चिल्ला 
जितना  झूठ  बोल  सकता  है
ज़ोर-ज़ोर  से  बोल  आज  सब
तेरा  दिन  है !

हमको  ऐसी  आज़ादी  तो 
नहीं  चाहिए
आटा-दाल,  सब्ज़ियां  ग़ायब
हर  ग़रीब  की  थाली  ख़ाली
हर  किसान  के  माथे  पर
पड़  रही  लकीरें
जाने  कब  आ  जाए  महाजन
जाने  कब  बिक  जाए  खेत-घर !
हर  अमीर  को  खुली  छूट  हो
सारा  काला-पीला  जायज़ !

जाने  किसकी  है  आज़ादी
जाने  कैसी  यह  आज़ादी

रख  ले,  भैये ! 
यह  आज़ादी  तू  ही  रख  ले
अपनी  हम  ख़ुद  ले  आएंगे
लड़  कर, भिड़ कर 
जैसे  भी  हो !

रख  ले,  भैये ! यह  आज़ादी
जनता  की  छाती  पर  चढ़  कर
भाषण  मत  दे !

                                                                          (2015)

                                                                  -सुरेश  स्वप्निल 

... 

                                                                           

गुरुवार, 30 जुलाई 2015

तीन छोटी कविताएं


                 1.

न्याय  समय-सापेक्ष  होता  है
और  समय
सरकार-सापेक्ष

न्याय,  समय  और  सरकार  की
इस  तिगलबंदी  में
न  असहमति  की  गुंजाइश  है
न  विद्रोह  की ...

बेशक़,  कुछ  लोग 
मानते  नहीं
और  चढ़ा  दिए  जाते  हैं 
सूली  पर  !

                       2.

असमय  मृत्यु
दुःख  का  कारण  है
और  वह  भी
एक  दंड  के  रूप  में ...

आप  न्याय  कर  नहीं  सकते
हम  ख़ुद  अपना  न्याय  कर  लें,  तो
अपराधी  कहलाए  जाएं

सत्ता  आपकी  है
क़ानून,  अदालतें,  सेना,  पुलिस 
सबके  सब  आपके

हम  कहां  हैं
आपकी  इस तथाकथित
'लोकतांत्रिक  प्रणाली'  में ? 

हम
एक  अरब  से  अधिक  आबादी  हैं
आम  जन  की

बार-बार 
याद  क्यों  दिलानी  पड़ती  है 
आपको  ?

                        3.

आप  जीत  गए,  सरकार  !

छल-छद्म, धन  और  सत्ता-बल  के  सहारे

हम  हार  गए
क्योंकि  हारना  ही  था  हमें
क्योंकि  वे  गुण  हैं  ही  नहीं  हममें
जिनके  सहारे
जीत  मुमकिन  बनाई  जाती  है
इन  दिनों  !

याद  रखिए, 
न  तो  आपकी  जीत  अंतिम  है
न  हमारी  हार ....

पांसा  पलट  भी  सकता  है
किसी  रोज़  !

                                                                        (2015)

                                                               -सुरेश  स्वप्निल

....

शुक्रवार, 8 मई 2015

कहां मिलता है न्याय ?


न्याय  क्या  होता  है  ?
कहां  मिलता  है  ?
कब,  किसको 
किस  क़ीमत  पर
किसकी  क़ीमत  पर  मिलता  है
न्याय  ?

कटे  हुए  वृक्षों  से  पूछो
पूछो  गौरैयों  से,  कौव्वों  से
शिकार  होते  हिरणों  से  पूछो
पूछो  सड़क  पर  सोने  वाले
कुत्तों  की  मौत  मारे  जाने  वालों  से
खदान  में  फंस  कर
दम  घुट  कर  मर  जाने  वालों  से
पूछो  'आतंकवादी'  या  'नक्सलवादी'  बता  कर
फ़र्ज़ी  मुठभेड़ों  में  मार डाले  जाने  वाले
नौजवानों  से 
पूछो  उनसे  जो  अपनी  ज़मीन  छिन  जाने  पर
महीनों  तक  पानी  में  खड़े  रहते  हैं
केवल  आश्वासन  की  प्रतीक्षा  में

हो  सकता  है  न्याय  मिलता  हो
कहीं,  किसी  देश  में 
बिना  किसी  भेदभाव  के
हमारे  देश  में  नहीं  मिलता !!!

                                                                                      (2015)

                                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

...

गुरुवार, 7 मई 2015

हर्क्युलिस के कंधे...

धरती  थर-थर  कांप  रही  है
मनुष्य  के  भय  से 
और  मनुष्य
प्रकृति  के  प्रकोप  से

हर्क्युलिस  के  कंधे  झुक  गए   हैं
बोझ  से
बार-बार  पांव  फिसल  जाता  है
उस  बूढ़े  देवता  का

और  मुश्किल  यह  है
कोई  नया  देवता 
पैदा  ही  नहीं  हुआ
लाखों  वर्ष  से ...

दोष  किसका  है,  पता  नहीं
वास्तविकता  यह  है
कि  बार-बार  खुल  जाते  हैं 
धरती  के  अधपके  घाव...

प्रकृति  शल्य-चिकित्सा  कर  रही  है
धरती  की

सवाल  यह  है  कि
इस  मरहम-पट्टी  में 
जो  धंसावशेष  पड़े  हैं
कौन  साफ़  करेगा  उन्हें ?

                                                                                 ( 2015 )

                                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

...

शनिवार, 2 मई 2015

नमस्कार, मित्रों !
जैसा कि आपको संभवतः ज्ञात है, फ़रवरी, 2915 में मेरा ग़ज़ल-संग्रह 'सलीब तय है', दख़ल प्रकाशन नई दिल्ली से प्रकाशित हुआ था। यह पुस्तक अब flipkart पर भी उपलब्ध है। आपकी सुविधा के लिए लिंक है, http://www.flipkart.com/saleeb-tay-hai/p/itme6xwm3wgxejvq?pid=9789384159115&icmpid=reco_pp_same_book_book_3&ppid=9789384159146

शनिवार, 11 अप्रैल 2015

कितनी दूर है सोमालिया ?

आज  फिर
आत्म-हत्या  करेंगे  कुछ  किसान
ज़हर  पी  कर
फांसी  लगा  कर
या  सदमे  से...

सरकार  फिर  घोषणाएं  करेगी
भारी-भरकम  मुआवज़े  की
अख़बार  फिर  ख़बर  छापेंगे
आत्म-हत्याओं  की  बढ़ती  संख्या  की
और  फिर  मेरे-जैसे  कवि
गालियां-उलाहने  देंगे  सरकार  को ....

कुछ  नहीं  होगा
अंततः
तीस  वर्ष  में 
तीन  लाख  आत्म-हत्याओं  के  बाद  भी  !

अगले  साल
फिर  बढ़  जाएगा  मुनाफ़ा
कुछ  उद्योगपतियों  का  !

कोई  जानता  है
कितनी  दूर  है  सोमालिया
भारत  से  ?

                                                                                       (2015)

                                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

...


                                                                                             

मंगलवार, 17 फ़रवरी 2015

तुम कुछ मत करना ...

रोज़-रोज़
हवाएं  बदल  रही  हैंदुनिया
दुनिया  को
तुम  कुछ  मत  करना 

तुम  मत  बदलना
बैठे  रहना  चुपचाप
घर  में
हाथ  पर  हाथ  धरे
इस  उम्मीद  में  कि
हवाएं  आएं 
और  बदल  दें  घर  की  रंगत
तुम्हारी  इच्छा  अनुरूप  !

न,  कोई  ज़रूरत  नहीं  किसी  प्रयास  की
जब  तुम  चाहते  ही  नहीं
कि  कुछ  बदले
तुम्हारी  दिनचर्या  में

चलने  दो  सब  कुछ
हवाओं  पर  छोड़  दो
बदल  दें  जो  बदलना  चाहें
आ  जाएं  किसी  भी  क्षण
सब  कुछ  कर  डालें
तहस-नहस … 

तुम  कुछ  मत  करना
तुम  तो  आस्तिक  हो,  वैसे  भी  !

                                                                  (2015)

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

....

सोमवार, 12 जनवरी 2015

बचना होगा दंश से ...

सांप  फिर  आ  गए  हैं
बिलों  के  बाहर
सही  बात  तो  यह  है  कि
हर  सांप  विषहीन / दंतहीन  भी  नहीं  होता
और  न  ही  डरपोक  भी

कभी  आना  करैत  के  दांव  में
छोड़ेगा  नहीं  तुम्हें
दौड़ा-दौड़ा  कर  डंसेगा  तुम्हें  !

सवाल  यह  भी  है
कि  हममें  से  कितने  लोग  जानते  हैं
करैत  की  आक्रामकता  के  बारे  में
और  कौन-कौन  पहचानता  है
करैत  और  कोबरा  को  ?

सांप  का  बाहर  आना  अपने  बिल  से
बहरहाल,  ख़तरनाक  है
हर  असावधान  मनुष्य  के  लिए
चाहे  सांप  की  जाति  कोई  भी  हो  !

जीवन  यदि  कोई  शर्त्त  है
तो  रोकना  होगा  तुम्हें
सांपों  को
अपने  और  अपनी  संततियों  को
डंसने  से
बचना  होगा  दंश  से
सांप  की  विभिन्न  प्रजातियों  के
आक्रमण  से  !

                                                                                     (2015)

                                                                             -सुरेश  स्वप्निल

...

गुरुवार, 8 जनवरी 2015

विदूषक को मार डालो !

विदूषक  को  मार डालो
वह  सबसे  बड़ा  ख़तरा  है
तुम्हारे  धर्म  के लिए

विदूषक  को  मारना  ही  होगा
वह  आवाज़  उठाएगा
तुम्हारी  निरंकुश  सत्ता  के  विरुद्ध

विदूषक  को  कम  मत  आंकना
वही  लाएगा  तुम्हारा  मृत्यु-संदेश
अपने  नए-नए  कारनामों  से
इकट्ठा  कर  देगा 
तुम्हारे  सारे  विरोधियों  को
और  फूंक  देगा
विद्रोह  का  बिगुल...

कोई  चारा  नहीं
विदूषक  को
मार  डालो
और  सुरक्षित  कर  लो
अपना  विशाल  साम्राज्य  !

                                                                   (2015)

                                                          -सुरेश  स्वप्निल
...