Google+ Badge

शुक्रवार, 8 मई 2015

कहां मिलता है न्याय ?


न्याय  क्या  होता  है  ?
कहां  मिलता  है  ?
कब,  किसको 
किस  क़ीमत  पर
किसकी  क़ीमत  पर  मिलता  है
न्याय  ?

कटे  हुए  वृक्षों  से  पूछो
पूछो  गौरैयों  से,  कौव्वों  से
शिकार  होते  हिरणों  से  पूछो
पूछो  सड़क  पर  सोने  वाले
कुत्तों  की  मौत  मारे  जाने  वालों  से
खदान  में  फंस  कर
दम  घुट  कर  मर  जाने  वालों  से
पूछो  'आतंकवादी'  या  'नक्सलवादी'  बता  कर
फ़र्ज़ी  मुठभेड़ों  में  मार डाले  जाने  वाले
नौजवानों  से 
पूछो  उनसे  जो  अपनी  ज़मीन  छिन  जाने  पर
महीनों  तक  पानी  में  खड़े  रहते  हैं
केवल  आश्वासन  की  प्रतीक्षा  में

हो  सकता  है  न्याय  मिलता  हो
कहीं,  किसी  देश  में 
बिना  किसी  भेदभाव  के
हमारे  देश  में  नहीं  मिलता !!!

                                                                                      (2015)

                                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

...

गुरुवार, 7 मई 2015

हर्क्युलिस के कंधे...

धरती  थर-थर  कांप  रही  है
मनुष्य  के  भय  से 
और  मनुष्य
प्रकृति  के  प्रकोप  से

हर्क्युलिस  के  कंधे  झुक  गए   हैं
बोझ  से
बार-बार  पांव  फिसल  जाता  है
उस  बूढ़े  देवता  का

और  मुश्किल  यह  है
कोई  नया  देवता 
पैदा  ही  नहीं  हुआ
लाखों  वर्ष  से ...

दोष  किसका  है,  पता  नहीं
वास्तविकता  यह  है
कि  बार-बार  खुल  जाते  हैं 
धरती  के  अधपके  घाव...

प्रकृति  शल्य-चिकित्सा  कर  रही  है
धरती  की

सवाल  यह  है  कि
इस  मरहम-पट्टी  में 
जो  धंसावशेष  पड़े  हैं
कौन  साफ़  करेगा  उन्हें ?

                                                                                 ( 2015 )

                                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

...

शनिवार, 2 मई 2015

नमस्कार, मित्रों !
जैसा कि आपको संभवतः ज्ञात है, फ़रवरी, 2915 में मेरा ग़ज़ल-संग्रह 'सलीब तय है', दख़ल प्रकाशन नई दिल्ली से प्रकाशित हुआ था। यह पुस्तक अब flipkart पर भी उपलब्ध है। आपकी सुविधा के लिए लिंक है, http://www.flipkart.com/saleeb-tay-hai/p/itme6xwm3wgxejvq?pid=9789384159115&icmpid=reco_pp_same_book_book_3&ppid=9789384159146