Google+ Badge

गुरुवार, 29 अक्तूबर 2015

वे हाथ ...

वे  हाथ 
जो  तोड़ते  हैं  पत्थर 
लिखते  हैं 
सुंदरतम  कविताएं 
इतिहास  के  माथे 
और  भविष्य  की  छाती  पर... 

वे  हाथ 
किसी  भी  क्षण 
बदल  सकते  हैं 
वर्त्तमान  की  दिशा  और  गति 
रंग-रूप 
और  आकार  ! 

कर्णधारों  ! 
गर्व  मत  करो 
अपनी  क्रय-शक्ति 
और   अपने  
विक्रय-मूल्य  पर ।

                                                                             (2015) 

                                                                      -सुरेश  स्वप्निल

रविवार, 18 अक्तूबर 2015

मानव-रक्त का रंग ...

लो,  वे  आ  गए
अपनी  सेनाएं  ले  कर

वे  जानते  हैं
हम  कहां-कहां  छिप  सकते  हैं
कौन-कौन  से  हथियार  जुटा  सकते  हैं
और  लड़  सकते  हैं  कितने  दिन

सिर्फ़  यह  नहीं  जानते  वे
कि  हम  मर  भी  जाएं  तो  बहुत-कुछ 
छोड़  जाएंगे
आगामी  पीढ़ियों  के  लिए
एक  जलती  आग
जो  बहुत  देर  तक  ज़िंदा  रहेगी
कदाचित
अगली  कई  सदियों  तक
और  अपने  पुरखों  की  कहानियां
जो  चैन  से  नहीं  जीने  देंगी
न  हमारे  वंशजों  को
न  उनके !

विडम्बना  यह  है 
कि  शत्रु  वे  नहीं  हैं  हमारे
वे  तो  मोहरे  हैं  उन  हाथों  के
जो  ख़रीदना  जानते  हैं
सब-कुछ 
अपनी  पूंजी  के  दम  पर
यहां  तक  कि 
सरकारों  के  ईमान  भी  !

यह  व्यापार  कौन-सा  है
जो  बदल  देता  है 
मानव-रक्त  का  रंग  ?

                                                                           (2015)

                                                                    -सुरेश  स्वप्निल 

...

शनिवार, 17 अक्तूबर 2015

आईने का सामना...

तुम  अगर  चाहो 
तो  पत्थरों  पर  लिख  दो
कविता

या  उठा  लो  हाथ  में  उन्हें
हथियार  की  तरह ...

चुनाव  तुम्हारा  है
चाहो  तो  बदल  दो  शक्ल-सूरत
अपने  समय  की
या  स्वीकार  कर  लो
यथास्थिति  को
कायर  राष्ट्रवादियों  की  तरह !

बड़ा  आसान  रास्ता  है  न
हर  पत्थर  को  तराश  दो
किसी  देवता  की  शक्ल  में
और  हासिल  कर  लो  पुरस्कार
कई-कई  अकादमियों  के !

याद  रखना  कि  तुम्हें 
रोज़  करना  है 
आईने  का  सामना !

                                                                               (2015)

                                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

...

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

जंगल जानता है ...

'तुम  उस  दिन  मारे  जाओगे
जब
जंगल  तुम्हारे  घर  आएगा !'
सैकड़ों  साल  हो  गए
इस  बात  को  क़लम  से 
और  जंगल
आज  तक  नहीं  पहुंचा
सत्ताधीश  के  घर  तक !

लेकिन  कोई  समस्या  नहीं
जंगल  की  गहराई  में  देर  है
अंधेर  नहीं

कुछ  दिन  और  इंतज़ार  करो,  तानाशाह  !
जंगल  आ  ही  रहा  है
तुम्हारे  घर  की  तरफ़

तुम  चाहो  तो 
तोप-तलवार  ले  आओ  अपने
हमारी  अदना-सी  क़लम  के  मुक़ाबले  !

जंगल  जानता  है
तोप-तलवार
और  क़लम  का  फ़र्क़  !

                                                                            (2015)

                                                                    -सुरेश  स्वप्निल 

...

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2015

अब बस भी करो ...

अरे ! आज  दो  अक्टूबर  है
और  बापू 
आज  राजघाट  पर  नहीं  हैं ...

वे  गए  हैं  बसहड़ा
गांव  की  गलियों  में

अख़्लाक़  अहमद  का  ख़ून  साफ़  करने !

भक्त  जन !
अब  बस  भी  करो
नौटंकी !

                                                                                 (2015)

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

...