Google+ Badge

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

जंगल जानता है ...

'तुम  उस  दिन  मारे  जाओगे
जब
जंगल  तुम्हारे  घर  आएगा !'
सैकड़ों  साल  हो  गए
इस  बात  को  क़लम  से 
और  जंगल
आज  तक  नहीं  पहुंचा
सत्ताधीश  के  घर  तक !

लेकिन  कोई  समस्या  नहीं
जंगल  की  गहराई  में  देर  है
अंधेर  नहीं

कुछ  दिन  और  इंतज़ार  करो,  तानाशाह  !
जंगल  आ  ही  रहा  है
तुम्हारे  घर  की  तरफ़

तुम  चाहो  तो 
तोप-तलवार  ले  आओ  अपने
हमारी  अदना-सी  क़लम  के  मुक़ाबले  !

जंगल  जानता  है
तोप-तलवार
और  क़लम  का  फ़र्क़  !

                                                                            (2015)

                                                                    -सुरेश  स्वप्निल 

...

कोई टिप्पणी नहीं: