Google+ Badge

शनिवार, 17 अक्तूबर 2015

आईने का सामना...

तुम  अगर  चाहो 
तो  पत्थरों  पर  लिख  दो
कविता

या  उठा  लो  हाथ  में  उन्हें
हथियार  की  तरह ...

चुनाव  तुम्हारा  है
चाहो  तो  बदल  दो  शक्ल-सूरत
अपने  समय  की
या  स्वीकार  कर  लो
यथास्थिति  को
कायर  राष्ट्रवादियों  की  तरह !

बड़ा  आसान  रास्ता  है  न
हर  पत्थर  को  तराश  दो
किसी  देवता  की  शक्ल  में
और  हासिल  कर  लो  पुरस्कार
कई-कई  अकादमियों  के !

याद  रखना  कि  तुम्हें 
रोज़  करना  है 
आईने  का  सामना !

                                                                               (2015)

                                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

...

कोई टिप्पणी नहीं: