Google+ Badge

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2015

अब बस भी करो ...

अरे ! आज  दो  अक्टूबर  है
और  बापू 
आज  राजघाट  पर  नहीं  हैं ...

वे  गए  हैं  बसहड़ा
गांव  की  गलियों  में

अख़्लाक़  अहमद  का  ख़ून  साफ़  करने !

भक्त  जन !
अब  बस  भी  करो
नौटंकी !

                                                                                 (2015)

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

...