Google+ Badge

गुरुवार, 14 जनवरी 2016

क़स्बाई लड़कियां

क़स्बाई लड़कियां 
कविताएं लिखती नहीं 
वे रचती हैं कविताएं 
जीवन के इर्द-गिर्द 

तपते चूल्हे पर पकाती हैं 
बहुत सी छोटी-बड़ी कविताएं 

क़स्बाई लड़कियां 
छंद गढ़ते-गढ़ते 
महाकाव्य हो जाती हैं 
निर्विकार प्रेम को समर्पित !
                                                         (2016) 
                                                  -सुरेश  स्वप्निल 
....

कोई टिप्पणी नहीं: